खबरों की मंडी

खबरों की मंडी
ज़मीर घोल स्याही में, सियासत की वाह-वाही लिख रहे हैं !! खबरों की मंडी में खबर कम, पत्रकार ज़्यादा बिक रहे हैं !!