माना कि तुम

Mohobaat Hindi Shayari

माना कि तुम जीते हो ज़माने के लिये,
एक बार जी के तो देखो हमारे लिये,
दिल की क्या औकात आपके सामने,
हम तो जान भी दे देंगे आपको पाने के लिये |

माना कि तुम

माना कि तुम - Love Hindi Shayari

माना कि तुम जीते हो ज़माने के लिये,
एक बार जी के तो देखो हमारे लिये,
दिल की क्या औकात आपके सामने,
हम तो जान भी दे देंगे आपको पाने के लिये |

तेरी अमानत है

Teri Amanat - Love Hindi Shayari
तेरी अमानत है ये रूह मेरी, न यकीं हो तो इम्तहान ले ले… ये फैसला भी तुझ पे है अब, बख्श दे या फिर जान ले ले…