वाह रे जमाने – Shayari for Mother Father

वाह रे जमाने - Shayari for Mother Father

वाह रे जमाने तेरी हद हो गई,
बीवी के आगे माँ रद्द हो गई !
बड़ी मेहनत से जिसने पाला,
आज वो मोहताज हो गई !
और कल की छोकरी,
तेरी सरताज हो गई !
Continue reading “वाह रे जमाने – Shayari for Mother Father”

एक अजीब दास्तान – Love Sad Shayari

एक अजीब दास्तान - Love Sad Shayari

एक अजीब दास्तान है मेरे अफसाने की,
मैने पल पल कोशिश की उसके पास जाने की,
किस्मत थी मेरी या साजिश थी ज़माने की,
दूर हुई मुझसे इतना जितनी …
उम्मीद थी उसके करीब आने की..

लहजे याद रखता हूँ

लहजे याद रखता हूँ - Mulakat Ke Lehje Shayari

मैं लोगों से मुलाक़ातों के लम्हे याद रखता हूँ,
मैं बातें भूल भी जाऊं तो लहजे याद रखता हूँ,
ज़रा सा हट के चलता हूँ ज़माने की रवायत से,
जो सहारा देते हैं वो कंधे हमेशा याद रखता हूँ |

माना कि तुम

Mohobaat Hindi Shayari

माना कि तुम जीते हो ज़माने के लिये,
एक बार जी के तो देखो हमारे लिये,
दिल की क्या औकात आपके सामने,
हम तो जान भी दे देंगे आपको पाने के लिये |

माना कि तुम

माना कि तुम - Love Hindi Shayari

माना कि तुम जीते हो ज़माने के लिये,
एक बार जी के तो देखो हमारे लिये,
दिल की क्या औकात आपके सामने,
हम तो जान भी दे देंगे आपको पाने के लिये |